Very Sad Shayari, Koi Aadat, Koi Baat

कोई आदत, कोई बात, या सिर्फ मेरी खामोशी,
कभी तो, कुछ तो, उसे भी याद आता होगा।

Koi Aadat, Koi Baat, Ya Sirf Meri Khamoshi, 
Kabhi To, Kuchh To Usey Bhi Yaad Aata Hoga.

Usey Bhi Yaad Aata Hoga

💔😞💔

 

इक तेरे बगैर ही न गुजरेगी ये ज़िंदगी मेरी,
बता मैं क्या करूँ सारे ज़माने की ख़ुशी लेकर।

Ek Tere Bagair Hi Na Gujregi Ye Zindagi Meri,
Bataa Main Kya Karoon Saare Zamane Ki Khushi Lekar.

Saare Zamane Ki Khushi Lekar

💔😞💔

 

न ख्वाहिशें हैं न शिकवे हैं अब न ग़म हैं कोई,
ये बेख़ुदी भी कैसे-कैसे ग़ुल खिलाती है।

Na Khwaahishe Hain Na Shikwe Hain Ab Na Gham Hai Koi,
Ye Bekhudi Bhi Kaise-Kaise Gul Khilati Hai.

Gul Khilati Hai

💔😞💔

 

हँसी यूँ ही नहीं आई है इस ख़ामोश चेहरे पर,
कई ज़ख्मों को सीने में दफ़न कर दिया हमने।

Hansi Yoon Hi Nahi Aayi Hai Iss Khamosh Chehre Par, 
Kayi Zakhmo Ko Seene Mein Dafan Kar Diya Humne.

Seene Mein Dafan Kar Diya

💔😞💔

 

हमारे बगैर भी आबाद थी उनकी हर महफिल,
और हम समझते थे कि उनकी रौनकें हमसे है।

Humare Bagair Bhi Aabaad Thi Unki Har Mehfil,
Aur Hum Samajhte The Ki Unki Raunakein Humse Hain.

Unki Raunakein Humse Hain

💔😞💔

Read More… 

 

Spread the love

Leave a Comment