Sadness Shayari, Koi Mila Hi Nahi

कोई मिला ही नहीं जिस को सौंपते मोहसिन,
हम अपने ख्वाब की खुशबू, ख्याल का मौसम।

Koi Mila Hi Nahi Jis Ko Saunpte Mohsin,
Hum Apne Khwab Ki Khushboo, Khayal Ka Mausam.

Khayal Ka Mausam

💔😥💔

वो ज़हर देता तो दुनिया की नजरों में आ जाता,
सो उसने यूँ किया कि वक़्त पे दवा न दी।

Wo Zeher Deta To Duniya Ki Najron Mein Aa Jata,
So Usne Yoon Kiya Ke Waqt Par Davaa Na Di.

Waqt Par Davaa Na Di

💔😥💔

वो मायूसी के लम्हों में जरा भी हौसला देता,
तो हम कागज़ की कश्ती पे समंदर उतर जाते।

Wo Mayoosi Ke Lamhon Mein Jara Bhi Hausla Deta,
To Hum Kagaz Ki Kashti Pe Samandar Utar Jate.

Samandar Utar Jate

💔😥💔

क्यूँ करते हो मुझसे इतनी ख़ामोश मोहब्बत,
लोग समझते हैं इस बदनसीब का कोई नहीं।

Kyun Karte Ho Mujhse Itni Khamosh Mohabbat,
Log Samjhte Hain Iss BadNaseeb Ka Koi Nahi.

BadNaseeb Ka Koi Nahi

💔😥💔

इतना भी इख्तियार नहीं मुझको वज़्म में,
शमाएँ अगर बुझें तो मैं दिल को जला सकूँ।

Itna Bhi Ikhteyaar Nahi Mujhko Bazm Mein,
Shamayein Agar Bujhein To Main Dil Jala Sakun.

Main Dil Jala Sakun

💔😥💔

Read More…

Spread the love

Leave a Comment